चेतना के अंकुर

Doğrulanmamış Hikaye मेरे जीवन में बहुत सारी ऐसी घटनाएँ घटती है जो मेरे ह्रदय को आंतरिक रूप से उद्वेलित करती है। मै बहिर्मुखी स्वाभाव का हूँ और ज्यादातर मौकों पर अपने भावों का संप्रेषण कर हीं देता हूँ। फिर भी बहुत सारे मुद्दे या मौके ऐसे होते है जहाँ का भावो का संप्रेषण नहीं होता या यूँ कहें कि हो नहीं पाता। यहाँ पे मेरी लेखनी मेरा साथ निभाती है और मेरे ह्रदय ही बेचैनी को जम...
16 BÖLÜMLER 4.3k görüntüleme Yeni bölüm Her 15 günde bir

दुर्योधन कब मिट पाया

Doğrulanmamış Hikaye जब सत्ता का नशा किसी व्यक्ति छा जाता है तब उसे ऐसा लगने लगता है कि वो सौरमंडल के सूर्य की तरह पूरे विश्व का केंद्र है और पूरी दुनिया उसी के चारो ओर ठीक वैसे हीं चक्कर लगा रही है जैसे कि सौर मंडल के ग्रह जैसे कि पृथ्वी, मांगल, शुक्र, शनि इत्यादि सूर्य का चक्कर लगाते हैं। न केवल वो अपने हर फैसले को सही मानता है अपितु उसे औरों पर थोपने की कोशिश भी करता है। नतीज...
38 BÖLÜMLER 6.2k görüntüleme Yeni bölüm Her 10 günde bir

मेरे गाँव में शामिल हुआ है थोड़ा सा शहर

Doğrulanmamış Hikaye इस सृष्टि में कोई भी वस्तु बिना कीमत के नहीं आती, विकास भी नहीं। अभी कुछ दिन पहले एक पारिवारिक उत्सव में शरीक होने के लिए गाँव गया था। सोचा था शहर की दौड़ धूप वाली जिंदगी से दूर एक शांति भरे माहौल में जा रहा हूँ। सोचा था गाँव के खेतों में हरियाली के दर्शन होंगे। सोचा था सुबह सुबह मुर्गे की बाँग सुनाई देगी, कोयल की कुक और चिड़ियों की चहचहाहट सुनाई पड़े...
2 BÖLÜMLER 18 görüntüleme Yeni bölüm Her hafta

Dil se

Doğrulanmamış Hikaye यहा मेरी कविताए आप पढ सकते है
1 bölümler 591 görüntüleme Yeni bölüm Her 15 günde bir
Blog Hikayesi

हौले कविता मैं गढ़ता हूँ

Doğrulanmamış Hikaye #आत्म_कथ्य #Mind #Confession #2linesonly #2liners #Spiritual #Micro_poetry
2 BÖLÜMLER 463 görüntüleme Yeni bölüm Her Pazar

ज़रा सी जिंदगी

Doğrulanmamış Hikaye अनकही दास्तान और मेरी कहानी
8 BÖLÜMLER 711 görüntüleme Yeni bölüm Her Pazartesi

कविता

Doğrulanmamış Hikaye Nil
1 bölümler 686 görüntüleme Yeni bölüm Her Pazar

बना कर दिखाओ

Doğrulanmamış Hikaye बना कर तो दिखाओ
Kısa Hikaye 779 görüntüleme Devam etmekte

पश्चाताप

Doğrulanmamış Hikaye अक्सर मंदिर के पुजारी व्यक्ति को जीवन के आसक्ति के प्रति पश्चताप का भाव रख कर ईश्वर से क्षमा प्रार्थी होने की सलाह देते हैं। इनके अनुसार यदि वासना के प्रति निरासक्त होकर ईश्वर से क्षमा याचना की जाए तो मरणोपरांत ऊर्ध्व गति प्राप्त होती है।  व्यक्ति डरकर दबी जुबान से क्षमा मांग तो लेता है परन्तु उसे अपनी अनगिनत  वासनाओं के अतृप्त रहने  का अफसोस होता है। वो पश्चाताप जो के...
Kısa Hikaye 1.7k görüntüleme Hikaye tamamlandı