vrushu Vrushu's Writing World

ये कहाणी बहुत सारे छोटे हिस्सो में है...यह एक मात्र चरित्र के बारे में है जो हर भावनात्मक उथल-पुथल में एकल भुमिका निभाता हैं |


Short Story All public. © Vrushu

#Fake #Friends #Forever
0
7.3k VIEWS
In progress - New chapter Every 2 days
reading time
AA Share

प्रस्तावना

ये कहाणी शिरिन नामक लड़की की है जो मुंबई में रहती है|जिसकी जिंदगी में सब नकली दोस्त ही आये|किसी ना किसी वजह से उसकी दोस्ती हमेशा टूट जाती थी|


तो चलिये शिरिन की कहाणी को समझने के लिये शुरु से शुरु करते है|


शिरिन अपनी ही दुनिया में मस्त रहना पसंद करती थी|पर वो बचपनसे ही दोस्तीको लेकर बहुत भाऊक थी|उसकी मा उसे हमेशा कहा करती थी की "तुम्हारी जिंदगी में एक दिन ऐसा भी आयेगा जब तुम्हारे सबसे ज्यादा दोस्त होंगे"|


शिरिन उस दिन का इंतजार कर रही थी|पर उस दिन का इंतजार करते करते उसका दोस्तीपरसे भरोसाही उठ गया|


और जैसा की शिरिन की मा ने कहा था,शिरिन की जिंदगीमें वो दिन आया जब उसके बहोत सारे दोस्त बने और कुछ दोस्तोंकेलिये शिरिन बहुत खास भी बन गयी|पर शिरिन उनमेंसे किसी कोभी मनसे दोस्त नही बना पायी|


सोचिये की ऐसा क्या हुआ होगा शिरिन के साथ इंतजार करते करते की वह आगे जाके कभी दोस्ती पे भरोसाहि ना कर पायी|


इसके पिछेकि वजह जाणणे के लिये पढते रहिये...Fake Friends...!




April 26, 2021, 5:10 p.m. 0 Report Embed Follow story
0
Read next chapter भाग-1

Comment something

Post!
No comments yet. Be the first to say something!
~

Are you enjoying the reading?

Hey! There are still 11 chapters left on this story.
To continue reading, please sign up or log in. For free!