तुझे शर्म नहीं आती?

भुट्टे वाले ने कहा , भाई साहब किसी को धोखा दिया नहीं , झूठ बोला नहीं और मेरे उपर लोन भी नहीं है , फिर काहे का शर्म ? मेहनत और ईमानदारी से हीं तो कमा रहा हूँ , कोई गलत काम तो नहीं कर रहा । लोगो को चुना तो नहीं लगा रहा ? ऑफिस में काम करते वक्त उसकी बातें यदा कदा मुझे सोचने पर मजबूर कर हीं देती हैं , किसी को धोखा दिया नहीं , झूठ बोला नहीं और मेरे उपर...
Short tale 1.3k views Story completed

वज्र तन दुर्योधन

जब भीम दुर्योधन को किसी भी प्रकार हरा नहीं पा रहे थे तब भगवान श्रीकृष्ण द्वारा निर्देशित किए जाने पर युद्ध की मर्यादा का उल्लंघन करते हुए छल द्वारा भीम ने दुर्योधन की जांघ पर प्रहार किया जिस कारण दुर्योधन घायल हो गिर पड़ा और अंततोगत्वा उसकी मृत्यु हो गई। प्रश्न ये उठता है कि आम मानव का शरीर तो वज्र का बना नहीं होता , फिर दुर्योधन का शरीर वज्र का कैसे बन गया था? उस...
Short tale 1.1k views Story completed

भय कर्ण का भीम से

इस बात में कोई संशय नहीं कि महारथी कर्ण एक महान योद्धा थे और एक बार उन्होंने महाभारत युद्ध के दौरान भीमसेन को एक बार हराया भी था. परन्तु महाभारत युद्ध के दौरान एक ऐसा भी पल आया था , जब महारथी कर्ण में मन में भीमसेन का पराक्रम देख कर भय समा गया था . महाभारत महाग्रंथ के कर्ण पर्व के चतुरशीतितमोध्याय अर्थात अध्याय संख्या 84 के श्लोक संख्या 1 से श्लोक संख्या 14 में इ...
Short tale 1.2k views Story completed

Fake Friends (Hindi Version)

ये कहाणी बहुत सारे छोटे हिस्सो में है...यह एक मात्र चरित्र के बारे में है जो हर भावनात्मक उथल-पुथल में एकल भुमिका निभाता हैं |
14 CHAPTERS 10.0k views 2 New chapter Every 2 days

पैसे की किल्ल्त और कोरोना..

खली समय की खुराफाती
Short tale 1.7k views In progress

Anokhi Duniya

This story is for kids. Its a fiction.
Short tale 2.6k views In progress

जंगल में सभा

बहुत समय से भारत के, जानवरों से भरे एक जंगल में, जानवरों की सभा नहीं हुई थी। बुजुर्ग जानवर चिंतित थे कि नयी पीढ़ियाँ अपने गौरवशाली इतिहास को भूलती जा रहीं थी। उन्होने एक सभा करने का निर्णय लिया।
Short tale 3.2k views 1 Story completed

कह भी दो

मानव स्वभाव पर प्रकाश डालती एक मनोवैज्ञानिक कहानी।
Short tale 513 views Story completed

एक दफ्तर का धार्मिक भेड़िया

दफ्तर का जीवन किसी जंगल से कम नहीं । जैसे जंगल में जीने के लिए चालाकी और चपलता जरुरी है , ठीक वैसे हीं दफ्तर में एक कर्मचारी को मजबूत बनना पड़ता है  । दफ्तर  के कायदे कानून एक हिरण को भी भेड़िया बनने को बाध्य कर देते हैं  । लेकिन एक भेड़िया होकर भी कोई धर्मिक रह सकता है क्या ?
Short tale 1.7k views Story completed

एक मेटल की जीवनी

ये कहानी मेरे और मेरे बेटे आप्तकाम के वार्ता पर आधारित है जहाँ पर मैंने अपने बेटे को जग्गी वासुदेव के आत्म साक्षात्कार के  अनुभूति को समझाने का प्रयास किया था।
Short tale 1.7k views Story completed

मर्ज एक औरत का

जब मर्ज झूठा हो तो उसका इलाज सच्चा कैसे हो सकता है? मानव मस्तिष्क के मनोविज्ञान पर प्रकाश डालती हुई कहानी।
Short tale 1.5k views Story completed

वो सिगरेट पीती लड़की

धूम्रपान करने वाली लड़कियों और स्त्रियों को प्रशंसा की नजर से देखने को नही कहता। परंतु इन्हें हिक़ारत की नजर से देखना कहाँ तक उचित है?
Short tale 1.7k views Story completed

गलत कौन

सवाल ये नहीं है कि गौतम बुद्ध के द्वारा सुझाये गए सत्य और अहिंसा के सिद्धांत सही है या गलत। सवाल ये है कि क्या आप उनको पालन करने के लिए सक्षम है या नहीं?
Short tale 794 views Story completed

रावण,परशुराम और सीता स्वयंवर

Non Verified story सीताजी की स्वयंवर में अनगिनत राजाओं , महाराजाओ की उपस्थिती के बारे में अनगिनत कहानियाँ प्रचलित है । ऐसा माना जाता है , शिवजी का भक्त होते के नाते रावण भी सीताजी की स्वयंवर में आया था। ये बात भी प्रचलित है कि शिवजी के धनुष के टूटने के बाद भगवान श्री परशुराम सीताजी के स्वयंवर स्थल पर आये थे तथा उनका लक्ष्मण जी के साथ वाद विवाद हुआ था। इन बातों में कहाँ तक...
Short tale 33 views Story completed

चंद्रगुप्त की जुबानी , भगवान श्रीकृष्ण की कहानी

Non Verified story जिस प्रकार भारतीय धर्मग्रंथों को ऐतिहासिक रूप से प्रमाणिक नहीं माना जाता रहा है ठीक उसी प्रकार इन धर्मग्रंथों में दिखाए गए महान व्यक्तित्व भी। इसका कुल कारण ये है कि इन धर्मग्रंथों को कभी भी पश्चिमी इतिहासकारों के तर्ज पर समय के सापेक्ष तथ्यात्मक रूप से प्रस्तुत नहीं किया गया। लेकिन क्या इसका मतलब ये हैं कि हम अपने पौराणिक महानायकों को मिथक की श्रेणी में रखकर इन...
Short tale 110 views Story completed

सच्चाई लक्ष्मण रेखा की

Non Verified story आम बोल चाल की भाषा में जब वाद विवाद के दौरान कोई अपनी मर्यादा को लांघने लगता है, अपनी हदें पार करने लगता है तब प्रायः उसे लक्ष्मण रेखा नहीं पार करने की चेतावनी दी जाती है। आखिर ये लक्ष्मण रेखा है क्या जिसके बारे में बार बार चर्चा की जाती है? आम बोल चाल की भाषा में जिस लक्ष्मण रेखा का इस्तेमाल बड़े धड़ल्ले से किया जाता है, आखिर में उसकी सच्चाई क्या है? इस कहान...
Short tale 199 views Story completed

डर आजादी का

Non Verified story मन मसोसते हुए मोर बाग में लौट गया। मोर को हंसी आ रही थी। उसको साफ साफ दिखाई पड़ रहा था कि इतने दिनों तक आदमी के साथ रहने के कारण शायद मैना को भी आदमी वाला रोग लग गया है। आदमी की नकल करते करते शायद मैना की अकल भी आदमी के जैसे हीं हो गई थी। आदमी ना तो अकेले रह हीं सकता है और ना हीं औरों को अकेले रहने देता है । मैना भी आदमी की तरह आजादी से डरने लग...
Short tale 354 views Story completed

अंधे का बेटा अंधा

Non Verified story महाभारत की कहानी पर आधारित अनगिनत टेलीविज़न सीरियल और फ़िल्में अनगिनत भाषाओँ में बनाई गई हैं और इन सारी कहानियों में द्रौपदी द्वारा दुर्योधन के मजाक उड़ाए जाने को दिखाया गया है। लेकिन क्या वास्तव में उनका दावा वास्तव में महाभारत ग्रन्थ में लिखी गई तथ्यों पर आधारित है , या कि महाभारत ग्रन्थ में लिखी गई तथ्यों के विपरीत है, आईये देखते है ।
Short tale 361 views Story completed

चार्वाक महाभारत का

Non Verified story महाभारत युद्ध के समाप्ति के उपरांत जब युद्धिष्ठिर का राज्यारोहण होने वाला होता है तब एक चार्वाक का जिक्र आता है जो दुर्योधन का मित्र होता है। उसे चार्वाक राक्षस के रूप में भी संबोधित किया जाता है। क्या कारण है कि दुर्योधन का एक मित्र जो कि नस्तिकतावादी दर्शन का अनुयायी था, दुर्योधन की मृत्यु के उपरांत उसके पक्ष में आ खड़ा होता है, ये जानते हुए भी कि वहां पर कृष्ण भ...
Short tale 486 views Story completed

6 साल का प्यार

Non Verified story Follow me for the story
1 chapter 2.0k views New chapter Everyday

होश और हथियार

Non Verified story होश और हथियार
Short tale 998 views In progress

वेश्या की राजनीति

Non Verified story वेश्या की राजनीति
Short tale 1.0k views In progress

प्यार

Non Verified story Great
Short tale 1.3k views In progress

रहसमय कीबोर्ड एक वरदान या अभिशाप

Non Verified story रमन अपने पिता जी के साथ एक छोटे से मकान में रहता है l वो एक बड़ी सी कंपनी मैं फाइनेंसियल एडवाइजर है l कल उसको एक प्रेजेंटेशन तैयार करनी है जिससे कि उसकी प्रमोशन भी हो सकती है l वो 🎒बैग से अपना लैपटॉप निकालता है पर किसी कारण वो चलता नहीं l रमन बहुत टेंशन मैं हो जाता है वो सोचता है कि अब क्या करूं इसका कीबोर्ड भी अभी खराब होना था l उसके पिता जी उससे ...
Short tale 1.5k views Story completed